Press "Enter" to skip to content

1100 वर्ष पुरानी, तीन बार रूप बदलने वाली माता Mahalaxmi की मंदिर, मुगल सम्राट की क्रुरूता झेल चुकी है यह मंदिर

मध्य प्रदेश, ग्वालियर डायरीज: MP के जबलपुर में स्थित अधारताल जलाशय के निकट एक 1100 वर्षो पुरानी माता Mahalaxmi की पचमठा मंदिर है। जहां दीपावली के पावन अवसर पर पूरे 24 घंटे लगातार अनुष्ठान चलता है। यह मंदिर तांत्रिको के लिए बेहद ही खास है, क्योंकि यह मंदिर तंत्र क्रियाओ के लिए प्रख्यात है। 

पचमठा मंदिर
पचमठा मंदिर

माता का रंग बदल जाती है 

  • यह मंदिर बेहद ही विशेष है, यहां हर सुबह सूर्य देव की पहली किरण सीधे माता के चरणों पर पड़ती है। माता की प्रतिमा का रंग पूरे दिन में तीन बार बदल जाता है:
  • सुबह के समय माता की प्रतिमा सफेद
  • दोपहर के समय यही प्रतिमा पीली
  • तथा संध्या होते होते यह नीली पड़ जाती है।
  • इस तरह यह प्रतिमा एक ही दिन में 3 बार अपना रंग बदल लेती है। 
पचमठा मंदिर
पचमठा मंदिर

मंदिर की बनावट

  • यह मंदिर की संरचना श्रीयंत्र के आधार पर की गई है, जिसके अनुसार चार दिशाओं में चार प्रवेश द्वार बने हुए है। 
  • मंदिर की गर्भगृह में श्री विष्णु चक्र (सुदर्शना चक्र) भी बना हुआ है। 
  • सबसे आकर्षण का केंद्र मंदिर अष्टकमल पर है।
  • मंदिर के कुल 12 खंभे है जो की 12 राशियों को प्रदर्शित करती है। 
  • साथ ही ग्रहों के लिए 9 ग्रह भी स्थापित है। 
  • मंदिर के प्रवेश द्वार पर हातिया और योगनिया भी है। 
पुरातत्व विभाग के संरक्षण में है ये मंदिर
पुरातत्व विभाग के संरक्षण में है ये मंदिर

मंदिर ने झेला है मुगल ओरंगजेब की क्रूरता

  • मंदिर के प्रवेश द्वार पर बनी योगनिया को ओरंगजेब की सेना ने तोड़ दी थी।  

इन 5 आसान और अनोखे Rangoli डिजाइन को इस Dipawali जरूर आजमाएं

दीपावली पर होती है विशेष पूजा

दीपावली के दिन सुबह 4 बजे से माता महालक्ष्मी की पूजा आरंभ कर दी जाती है। और इस दौरान माता का अभिषेक दूध, दही, इत्र, पंचगव्यय इत्यादि से की जाती है, जो 7 बजे तक चलता है। श्रृंगार का कार्यक्रम ठीक इसके बाद किया जाता है, और दोपहर को होने वाली महाआरती की प्रबंध कर लिया जाता है। रात्रि के 1 बजे पंचमेवा से माता की विशेष पूजा अर्चना की जाती है। ठीक इसके बाद भगवान कुबेर की पूजा की जाती है। जिसके बाद माता को आहूतियांं देकर मंत्रो, यंत्रों की सहायता से सिद्धि की जाती है। यह पूजा दीपावली के दूसरे दिन सुबह 6 बजे तक चलती है।

मंदिर में 22 सालों से अखंड ज्योति जल रही है।
मंदिर में 22 सालों से अखंड ज्योति जल रही है।

भारत में 2021 का आखिरी ‘Chandra Grahan’ कब है? देखे तिथि, समय

साधना का केंद्र कहे जाने वाले इस मंदिर की मान्यता है की अगर एक माला की सिद्धि की जाए तो 1000 माला की सिद्धि प्राप्त होती है। यहां आने वाले भक्तो की सच्चे ह्रदय से मांगी गई सारे मनकामना भी पूरी होती है।

More from LifeMore posts in Life »
More from Madhya PradeshMore posts in Madhya Pradesh »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.