Press "Enter" to skip to content

IT मिनिस्टर अश्विनी वैष्णव का ट्विटर को चेतावनी

बोहोत से लोग सोच रहे होंगे की रविशंकर प्रसाद के अपने पोस्ट से इस्तीफे से ट्विटर जीत गया आखिरकार पिछले कुछ दिनों से ट्विटर और भारत सरकार के बीच मतभेद चल रहा था और रविशंकर प्रसाद IT मिनिस्टर के रूप में सरकार की तरफ पूरी तरह से एक्टिव थे। यह भी बोला जा रहा है की उन्होंने ट्विटर से भारत की नियमो को ठीक से पालना नहीं करवा पाए इसलिए उनको अपनी पद छोड़ना पड़ा। और कुछ लोग यह भी बोल रहे है की इसमें ट्विटर जीत गया और ट्विटर के कहने पर ही उनकी विदाई हुए है।

ग्वालियर-चंबल संभाग से अब है दो केंद्र मंत्री

हम बता दे की देश के नए IT मिनिस्टर अश्विनी वैष्णव ने पद संभालते ही यह स्पष्ट कर दिया है की भारत का कानून सर्वोपरी है और कहा है

देश का कानून सर्वोच्च है, ट्विटर को नियम का पालन करना चाहिए

 

अश्विनी वैष्णव एक फॉर्मर IAS अफसर है और ओडिशा कैडर से आते है। 28 जून 2019 को उनको ओडिशा का राज्य मंत्री बनाया गया था और वो तब से राज्य सभा के सदस्य है। उन्होंने M.tech की पढ़ाई IIT कानपुर से की है और उसके पश्चात 1994 में सिविल सर्विस की एग्जाम में AIR-27 हासिल की। उन्होंने Wharton School of the University of Pennsylvania से एमबीए की डिग्री प्राप्त की है। वो वाजपई सरकार में भी कई अहम भूमिका में थे।

अब आम लोग कराएंगे Corona गाइडलाइन का पालन

हालाकि चौकाने की बात यह है की उनको एक नही बल्कि तीन मंत्रालय संभालने का जिम्मा मिला है यह दर्शाता है की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उन पर कितना विश्वास है अब यह देखने वाली बात होगी की क्या वो प्रधानमंत्री के विश्वास पर खरे उतरते है या नहीं।

तीन मंत्रालय के नाम:

  • Minister of Railways
  • Minister of Electronics and Information Technology
  • Minister of Communications

उनपे सबसे बड़ी जिमेदारी यह होगी की वो सोशल मीडिया साइट्स को भारत की आईटी नियमो का पालन करवाए।

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.