Press "Enter" to skip to content

108 नए मामलो के साथ कुल Dengue के मामले 1211 हुए, डेंगू से बचने के तरीके देखे

ग्वालियर न्यूज, ग्वालियर डायरीज: ग्वालियर में डेंगू अब बिकराल रूप ले चुका है हालत यह है की अभी तक का कुल मामला 2018 के पूरे मामले से अधिक है। 2018 में कुल 1202 लोग ही डेंगू के चपेटे में आए थे जबकि इस बार 2021 के अक्टूबर महीने के 24 तारीख तक ही 1211 मरीज डेंगू से प्रभावित हो चुके है, जिसमे ज्यादातर बच्चे है , जो और भी चिंताजनक तथ्य है।

बच्चे की चाहत में तांत्रिक के कहने पर दे दी कॉलगर्ल की बलि, मर्डर 2 देख की थी मर्डर की प्लानिंग

रविवार के दिन कुल 310 सैंपल जांच के लिए आए थे, जिसमे 108 सैंपल का परिणाम पॉजिटिव आया। इन 108 सैंपल में 80 केवल ग्वालियर शहर के है रविवार के दिन पॉजिटिव रेट 35% रही, जबकि शनिवार के दिन यह 29% पर थी। हम बता दे की कोरोना का पॉजिटिव रेट 2-3% तक रहता है। इस से आप आसानी से अंदाजा लगा सकते है की यह कितने तेजी से ग्वालियर के वाशियो को अपना शिकार बना रहा है। 

आदमी ने निगल लिया मोबाइल , छह महीने बाद हुई सर्जरी

हम ग्वालियर डायरीज की ओर से आप सभी से अनुरोध करते है, की आप डेंगू से बचने के लिए हर जरूरी कदम उठाए, विशेष कर अपने बच्चो को इससे बचाए। बीते कुछ दिनो मे यह साफ तौर पर देखी जा सकती है की डेंगू से प्रभावित होने वाले ज्यादातर बच्चे है। 

Dengue की मार, कुल मरीजों की संख्या बढ़ कर 1131 हुई, बीते दिन 109 नए पॉजिटिव मामले आए सामने

कोई भी टीका डेंगू बुखार से बचाव नहीं कर सकता है। मच्छरों के काटने से ही बचा जा सकता है। जो कोई भी जोखिम वाले क्षेत्र में रहता है या यात्रा करता है, वह काटे जाने से बचने के लिए कई तरीकों का उपयोग कर सकता है: 

कपड़े: लंबी पैंट, लंबी बाजू की शर्ट और मोजे पहनकर, पैंट की टांगों को जूतों या मोजे में बांधकर और टोपी पहनकर उजागर होने वाली त्वचा की मात्रा को कम करें।

 मच्छर भगाने वाले: डायथाइलटोलुएमाइड (डीईईटी) की कम से कम 10 प्रतिशत एकाग्रता के साथ एक विकर्षक का उपयोग करें, या लंबे समय तक एक्सपोजर के लिए उच्च एकाग्रता का उपयोग करें। छोटे बच्चों पर डीईईटी के प्रयोग से बचें।

भारत में COVID-19 की तीसरी लहर? केंद्र ने जारी की नई गाइडलाइंस

 मच्छरदानी और जाल: कीटनाशक से उपचारित जाल अधिक प्रभावी होते हैं, अन्यथा मच्छर जाल के माध्यम से काट सकता है यदि व्यक्ति उसके बगल में खड़ा हो। कीटनाशक मच्छरों और अन्य कीड़ों को मार देगा, और यह कीड़ों को कमरे में प्रवेश करने से रोक देगा।

 दरवाजे और खिड़की के पर्दे: संरचनात्मक बाधाएं, जैसे स्क्रीन या जाल, मच्छरों को बाहर रख सकते हैं।

 गंध से बचें: अत्यधिक सुगंधित साबुन और परफ्यूम मच्छरों को आकर्षित कर सकते हैं।

Smart City कार्पोरेशन 2 करोड़ खर्च कर Gwalior Fort में की खास लाइटिंग का इंतजाम

 कैम्पिंग गियर: कपड़े, जूते और कैंपिंग गियर को पर्मेथ्रिन से ट्रीट करें, या ऐसे कपड़े खरीदें जिनका ढोंग किया गया हो।

 समय: सुबह और शाम को बाहर जाने से बचने की कोशिश करें।

 स्थिर पानी: एडीज मच्छर साफ, स्थिर पानी में प्रजनन करता है। इसलिए पानी को जमने न दे।

More from Madhya PradeshMore posts in Madhya Pradesh »
More from ग्वालियर न्यूजMore posts in ग्वालियर न्यूज »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.