Press "Enter" to skip to content

Hill Stations near Gwalior: Kamadgiri and Pachmarhi

Hill Stations near Gwalior
Hill Stations near Gwalior

चट्टानी पहाड़ियों से घिरी एक खूबसूरत घाटी के बीच स्थित ग्वालियर को एक बहुत प्रसिद्ध ऐतिहासिक शहर माना जाता है; यह शहर विदेशी परिदृश्यों काफी आकर्षित करता है। हालाँकि, शहर कम महत्वपूर्ण होने के कारण, ग्वालियर के आसपास के कई क्षेत्र आज भी अस्पष्ट हैं। ग्वालियर के पास कुछ हिल स्टेशन हैं जो आपको अपने जीवन के बाकी हिस्सों को संजोने लायक सप्ताहांत की छुट्टी बिल्कुल उपयुक्त हैं।

यह भी पढ़े:

Places to Visit in Gwalior: Sun Temple

मस्ती भरे दिन के लिए Gwalior के सर्वश्रेष्ठ Water Park

Kamadgiri

Kamadgiri
Kamadgiri

कामदगिरी एक जंगली पहाड़ी है जिसका आधार चारों तरफ से कई हिंदू मंदिरों से घिरा हुआ है और इसे चित्रकूट का दिल भी माना जाता है। तीर्थयात्री इस पहाड़ी के चारों ओर इस विश्वास के साथ परिक्रमा करते हैं कि उनके सभी दुखों का अंत हो जाएगा और ऐसा करने से उनकी मनोकामनाएं पूरी होंगी।

Kamadgiri
Kamadgiri

कामदगिरी का नाम भगवान राम के दूसरे नाम कामदनाथजी से लिया गया है और इसका मतलब सभी इच्छाओं को पूरा करना है। परिक्रमा के 5 किलोमीटर के रास्ते पर कई मंदिर हैं, सबसे प्रसिद्ध भारत मिलाप मंदिर में से एक है, जहां भरत ने भगवान राम से मुलाकात की और उन्हें अपने राज्य में वापस आने के लिए मना लिया।

Kamadgiri
Kamadgiri

कामदगिरी पर्वत का कुछ भाग उत्तर प्रदेश में तो कुछ मध्य प्रदेश में पड़ता है। कामदगिरी में चैत्र महीने (हिंदू कैलेंडर का पहला महीना) के दौरान रामनवमी और दीपावली के उत्सवों का आनंद लेने के लिए भक्तों की भीड़ देखी जाती है। हर महीने अमावस्या (पूर्णिमा के दिन) पर यहां भव्य मेला भी लगता है।

Kamadgiri
Kamadgiri
  • घूमने का सबसे अच्छा समय: गर्मियों में घूमने से बचें क्योंकि परिक्रमा करने के लिए लाल पत्थर बहुत गर्म हो जाते हैं
  • आवश्यक समय : 3-4 घंटे
  • कुछ महत्वपूर्ण स्थान: परिक्रमा पथ, भारत मिलाप।
  • पहुँच कैसे: कामदगिरी ग्वालियर से 380 किलोमीटर दूर है। कामदगिरी पहुंचने के लिए आप नियमित ट्रेन, निजी कार और टैक्सी सेवाएं लगातार प्राप्त कर सकते हैं।

Pachmarhi — Queen of the Satpuras

Pachmarhi — Queen of the Satpuras
Pachmarhi — Queen of the Satpuras

पचमढ़ी एकमात्र हिल स्टेशन है और मध्य प्रदेश का सबसे ऊंचा स्थान है। पचमढ़ी को अक्सर “सतपुड़ा की रानी” या “सतपुड़ा रेंज की रानी” के रूप में भी जाना जाता है। 1,067 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, सुरम्य शहर यूनेस्को बायोस्फीयर रिजर्व का एक हिस्सा है, जो तेंदुए और बाइसन का घर है।

Pachmarhi — Queen of the Satpuras
Pachmarhi — Queen of the Satpuras

माना जाता है कि पहाड़ी की चोटी पर पांच बलुआ पत्थर की गुफाओं को वह स्थान माना जाता है जहां पांडव अपने निर्वासन के दौरान पचमढ़ी में रुके थे, जिससे यह धार्मिक पर्यटकों के बीच एक लोकप्रिय स्थान बन गया।

Pachmarhi — Queen of the Satpuras
Pachmarhi — Queen of the Satpuras

ऊंचाई पर होने और सतपुड़ा के जंगलों और झरनों से घिरे होने के कारण, पचमढ़ी मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के नजदीकी शहरों से एक आदर्श सप्ताहांत पलायन है। चूंकि इस शहर की खोज और विकास आधुनिक समय में ब्रिटिश सेना के कैप्टन जेम्स फोर्सिथ द्वारा किया गया था, इसलिए इसमें औपनिवेशिक शैली की वास्तुकला में बने आकर्षक चर्च हैं।

  • कुछ महत्वपूर्ण स्थान: ​रजत प्रपात, बी फॉल्स, धूपगढ़ (सतपुड़ा रेंज की सबसे ऊंची चोटी), जटाशंकर गुफा, पांडव गुफा, सनसेट प्वाइंट।
  • ​यहां पहुँचने कैसे: पंचमढ़ी ग्वालियर से 574 किलोमीटर दूर है। आप वहां पहुंचने के लिए ट्रेन, निजी कार या टैक्सी सेवा का लाभ उठा सकते हैं।
  • ​यात्रा करने का सर्वोत्तम समय: इसकी सुखद सुंदरता का आनंद लेने के लिए पंचमढ़ी में पूरे साल जाया जा सकता है। गर्मी के दिनों में अत्यधिक गर्मी के कारण लोग मार्च-अप्रैल से बच सकते हैं।

 

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.