Press "Enter" to skip to content

Tales of Gwalior-Chambal floods: बाढ़ से बचाए गए लोगो ने बताया भयावहता के किस्से, कहा– भगवान का शुक्र है की बच गए

ग्वालियर के बाढ़ का भयावह नजारा
ग्वालियर न्यूज, Gwalior Diaries: पिछले कुछ दिनों से ग्वालियर-चंबल इलाका भीषण flood की चपेट में है, घरों में पानी घुस गया है और सड़कें नालों में तब्दील हो गई हैं। लोगों को भारी नुकसान हुआ है। इलाके के बड़े हिस्से में पानी और बिजली पूरी तरह से ठप हो गई है। flood से प्रभावित इलाकों के कस्बों में भी लोग बिना पानी पिए रहने को मजबूर हैं। हजारों लोगों ने निचले इलाकों में अपना घर छोड़ दिया है और सुरक्षित स्थानों पर शरण ली है।
जमीन स्तर पर रह रहे लोगो जो flood से प्रभावित है उनका इसपर क्या कहना है, आइए जानते है।
‘बारिश के पानी का इस्तेमाल नहाने, कपड़े धोने और यहां तक ​​कि पीने के लिए करना पड़ रहा है’: Neelam Singh Rajput, Shivpuri
नीलम की दुकान
शिवपुरी में थांडी सड़क पर मेरी एक साड़ी की दुकान है। मैं अपने संयुक्त परिवार के साथ सर्किट हाउस रोड पर रामबाग कॉलोनी में दो मंजिला मकान में रहता हूं। सोमवार सुबह छह बजे से झमाझम बारिश हुई और दोपहर दो बजे तक चली। आधी रात से एक बजे तक फिर बरसा। देखते ही देखते चारों ओर पानी ही पानी हो गया। मेरी दुकान और घर के ग्राउंड फ्लोर में भी पानी घुस गया। बिजली और पानी भी चली गई। दुकान पर लगी 5-7 लाख रुपये की साड़ियां बर्बाद हो गई हैं, और बाकी बचे सामान नष्ट हो गया है। हमारे घर में चीजें इधर-उधर तैर रही थीं। हम बारिश के पानी का इस्तेमाल नहाने, कपड़े धोने और यहां तक ​​कि पीने के लिए भी कर रहे हैं। घर के बच्चों के लिए करीब एक किमी दूर एक होटल से पानी लाया हूं। हमारे पास चार दोपहिया वाहन हैं। बाइक के इंजन में पानी घुस गया है। एक बार जब पानी उतर जाएगा, तो मैं एक मैकेनिक को बुलाकर दिखा दूंगा। दरअसल, बारिश कोई समस्या नहीं है। पानी निकलने की ठीक व्यवस्था नहीं होने से परेशानी होती है। लोगों ने नालों पर कब्जा कर लिया है, उन्हें संकरा कर दिया है जिससे उनकी जल-वहन क्षमता कम हो गई है, जिससे बाढ़ आई।
‘बाढ़ ने मुझे बर्बाद कर दिया’ : Bhagwanlal Singhal, 68, trader Shivpuri
Bhagwanlal Singhal की दुकान
 पिछले तीन दिनों से शहर में पानी की आपूर्ति नहीं हो रही है। बिजली की भी आपूर्ति नही हो रही हैं। मेरे परिवार के बच्चों के पास पीने के लिए पानी नहीं है। मैं खाद्यान्न, खाद्य तेल आदि का थोक व्यापारी हूं। मेरी दुकान और गोदाम फाउंड फ्लोर पर हैं और मैं अपने परिवार के साथ ऊपरी मंजिल पर रहता हूं। पानी घर में नहीं आया लेकिन मेरी दुकान 10 फीट पानी के नीचे थी। इन बाढ़ों ने मुझे बर्बाद कर दिया है। मुझे कम से कम 30 लाख रुपये का नुकसान हुआ है। मेरी दुकान और गोदाम में रखी सैकड़ों बोरी चीनी, मैदा और चावल पानी के कारण नष्ट हो गई. करीब 300 कार्टन खाद्य तेल बह गया। मैं हर महीने सरकार को जीएसटी के रूप में 40 लाख रुपये का भुगतान करता हूं। क्या सरकार को मेरी मदद नहीं करनी चाहिए? नुकसान का आकलन करने के लिए एक सर्वेक्षक ने आज मेरी दुकान का दौरा किया। लेकिन मुझे नहीं पता कि मुझे कोई मदद मिलेगी या नहीं।
यह भी पढ़े: बाढ़ से बचने के जरूरी उपाय जो आपको पता होने चाहिए
‘जान बचाने के लिए हमें अपना गांव छोड़ना पड़ा’: Ankit, 19 Farmer, Andora village, district Datia
Ankit, 19 Farmer
हमारा पूरा गांव डूब गया है, हमारे गांव की आबादी करीब 800 है। हमने करीब 2 किमी दूर बिलासपुर गांव में दो हायर सेकेंडरी स्कूलों के भवनों में शरण ली है। सोमवार की सुबह जब मैं उठा तो चारों तरफ पानी नजर आया। देखते ही देखते पानी हमारे घरों में घुस गया। घर का सामान नष्ट हो गया – कपड़े, टीवी सेट, अलमारी सब कुछ। मेरे घर में रखे करीब 50 बोरी गेहूं, सरसों और चने को पानी ने बर्बाद कर दिया है. ग्रामीणों ने एक दूसरे की मदद की। जान बचाने के लिए हमें अपना गांव छोड़ना पड़ा। हम कमर-गहरे पानी से गुज़रे। जो तैरना जानते थे, उन्होंने तैराकी की। हम किसी तरह बिलासपुर आ गए। यहां हम सुरक्षित हैं। सरकार की ओर से किसी ने हमारे परिवहन की व्यवस्था नहीं की। हमें एक दिन बिना भोजन के रहना पड़ा। स्थानीय ग्रामीणों ने हमारी मदद की है। हमने बाजार से आलू और कुछ अनाज खरीदा है। हम यहां अपने लिए खाना बना रहे हैं। हमारे घर पानी में डूब गए हैं। स्थिति में सुधार होते ही हम अपने गांव वापस चले जाएंगे। तभी हम नुकसान का आकलन कर पाएंगे। गनीमत रही कि हमारे गांव में कोई हताहत नहीं हुआ।
More from ग्वालियर न्यूजMore posts in ग्वालियर न्यूज »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.